छात्रा को अगवा कर सामूहिक दुराचार

गोंडा। मनकापुर कोतवाली क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली इंटर की एक छात्रा के साथ अगवा कर गैंगरेप की घटना सामने आई है। बंधक बनाकर उसके साथ रेप की वारदात अंजाम दिया गया। पीडि़ता का कहना है कि नशे की गोलियां खिला कर शारीरिक यातनाएं भी दी गईं। पीडि़ता के परिजनों की तहरीर पर दो के विरुद्ध केस दर्ज कर लिया गया है।

बताया जाता है कोतवाली क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली छात्रा 13 अप्रैल को अपनी मां के साथ शौच के लिए गई थी। इसी दौरान बाइक पर आये दबंग उसे उठा ले गए और एक जगह बंधक बनाकर गैंग रेप की वारदात को अंजाम दिया। इस दौरान पीडि़ता को शारीरिक यातनाएं भी दी गईं। उसने बताया कि वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी उसे छोड़ कर भाग गए। वह बेहोश हो गई थी, इसके बाद आरोपियों के चाचा पहुंचे और किसी को कुछ न बताने की धमकी दी। पीडि़त छात्रा के मुताबिक आरोपियों के चाचा ने पुलिस बुला कर उसे सौंप दिया। कोतवाली पहुंचने के बाद परिजनों को जानकारी दी गई। इसके बाद परिजनों को घटना की जानकारी दी गई। बीती 14 अप्रैल को जब घर वाले कोतवाली पहुंचे और तहरीर दी तो पुलिस ने दूसरी धाराओं में केस दर्ज किया।

चाचा का आरोप है कि दुराचार की तहरीर देने के बाद भी पुलिस ने राजनीतिक दबाव के चलते घटना अपहरण और छिपाने की धाराओं में दर्ज की है। जबकि पुलिस ने सोमवार को महिला पुलिस के साथ छात्रा को मेडिकल जांच के लिए जिला महिला अस्पताल भेजा है। कोतवाल अशोक कुमार सिंह ने बताया कि जांच रिपोर्ट के बाद धारा तरमीम की जायेगी। अपहरण और छिपाने का केस अमित सिंह पुत्र दिनेश सिंह, घुरहू पुरवा मनकापुर और छोटू सिंह पुत्र शिवपूजन सिंह, थनवापुर थाना सादुल्लानगर बलरामपुर के विरुद्ध दर्ज किया गया है। दोनों की गिरफ्तारी के प्रयास किये जा रहे हैं। मेडिकल जांच को लेकर बताया कि 14 अप्रैल को पीडि़ता को भेजा गया था, लेकिन छुट्टी होने के कारण मेडिकल परीक्षण नहीं हो सका। 15 अप्रैल को रविवार था, इसलिए सोमवार को भेजा गया है।

जिला महिला अस्पताल में पीडि़ता के चाचा ने मीडिया को बताया कि तीन के विरुद्ध तहरीर दी गई थी, लेकिन एक आरोपी एक बड़े भाजपा नेता के कालेज के रिटायर्ड टीचर का पुत्र है तो उसका नाम हटा दिया गया है। उन्होंने आरोप लगाया कि मुख्य आरोपी को पुलिस सत्ता के दबाव में बचा रही है। कोतवाल ने चाचा के आरोपों से इनकार किया है।

Leave a Reply